यूनिक आर्टिकल लिखने के लिए रिसर्च कैसे करें

यूनिक आर्टिकल लिखने के लिए रिसर्च कैसे करें-

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको यूनिक आर्टिकल कैसे लिखते हैं, यह बताने वाले हैं। दोस्तों यदि तुम एक ब्लॉगर हो और अपने ब्लॉग पर सदा आर्टिकल प्रकाशित करते हो तो तुम्हारे मन में यह प्रश्न अवश्य ही आता होगा कि आखिर आर्टिकल को यूनिक कैसे लिखें तथा आर्टिकल को यूनिक लिखने के लिए रिसर्च कैसे करें। दोस्तों हर ब्लॉगर यह इच्छा रखता है कि उसके ब्लॉक में ऐसे-ऐसे आर्टिकल उपलब्ध हो जो कि इंटरनेट पर पहले से उपलब्ध ना हो। हर ब्लॉगर चाहता है कि उपयोगकर्ता उसके ब्लॉग पर लिखे गए आर्टिकल के द्वारा नई जानकारी प्राप्त करें, लेकिन उसे पढ़े जरूर।

परंतु दोस्तों क्या आप ऐसा करने में सफल हो पाते हैं? क्या आप सदा अपने ब्लॉग पर ऐसे आर्टिकल प्रकाशित करते हैं जो 100% यूनिक अर्थात ओरिजिनल होते हैं। तो दोस्तों आज हमारा यह आर्टिकल आपको इसी बारे में जानकारी देने वाला है । इसलिए दोस्तों आर्टिकल को शुरू से लेकर एंड तक पढ़िए। तो चलिए दोस्तों आपको बताते हैं कि यूनिक आर्टिकल लिखने के लिए रिसर्च कैसे करते हैं-

दोस्तों यदि तुम अपने ब्लॉग पर आर्टिकल लिखते हैं तो आपको अवश्य ही पता होगा कि यूनिक आर्टिकल क्या होता है। फिर भी हो सकता है कि आप में से कई व्यक्तियों को या कई ब्लॉगर्स को इसके बारे में सही ढंग से पता ना हो, तो हम आपको बता देते हैं कि आखिर यूनिक आर्टिकल क्या होता है।

यूनिक आर्टिकल क्या होता है ?

दोस्तों यूनिक आर्टिकल का अर्थ होता है सबसे भिन्न अर्थात ऐसा आर्टिकल जो किसी के आर्टिकल से मैच नहीं खाता हो, वह आर्टिकल यूनिक आर्टिकल होता है। इसके अलावा हम कह सकते हैं कि ऐसा आर्टिकल जो इंटरनेट पर पहले से उपलब्ध ना हो और आपने वह आर्टिकल पहली बार ही लिखा हो तो वह आर्टिकल यूनिक आर्टिकल होता है।

दोस्तों उदाहरण के तौर पर आपको बता दूं कि जैसे मान लीजिए हमारा यह आर्टिकल है कि ‘यूनिक आर्टिकल लिखने के लिए रिसर्च कैसे करें’ तो दोस्तों आप जब इस आर्टिकल को गूगल पर सर्च करोगे तो हमारा ही आर्टिकल आपको गूगल पर दिखाई देगा, क्योंकि यह यूनिक आर्टिकल है । आपको इसके समान ही कोई दूसरा आर्टिकल नहीं दिखाई देगा । तो दोस्तों यही है यूनिट आर्टिकल।

यूनिक आर्टिकल कितने प्रकार के होते हैैं?

दोस्तों मुख्य रूप से यूनिक आर्टिकल 2 प्रकार के होते हैं।

i ऐसा आर्टिकल जो कि इंटरनेट पर पहले से ही उपलब्ध हो।

ii ऐसा आर्टिकल जो कि इंटरनेट पर पहले से उपलब्ध नहीं हो।

मुझे लगता है आपको कन्फ्यूजन हो रही होगी कि ऐसा आर्टिकल जो इंटरनेट पर पहले से उपलब्ध है। वह आर्टिकल यूनिक कैसे हो सकता है। तो दोस्तों चलिए हम आपको इसके बारे में समझाते हैं।

ऐसा आर्टिकल जो कि इंटरनेट पर पहले से ही उपलब्ध है?

दोस्तों मेरे ख्याल से आप यह अवश्य सोच रहे होंगे कि यदि कोई आर्टिकल इंटरनेट पर पहले से ही उपलब्ध है और उसी के बारे में हम कोई दूसरा आर्टिकल लिखकर पब्लिश करेंगे तो वह यूनिक कैसे हो सकता है । तो दोस्तों हम यहां पर आर्टिकल को कॉपी पेस्ट करने की बात तो बिल्कुल ही नहीं कर रहे हैं, हम यह कहना चाह रहे हैं कि आपके लिखने का तरीका कैसा है? यदि आप दूसरे के आर्टिकल को अपने तरीके से कुछ नई जानकारी के साथ और बेहतर लिखते हैं तो यही होगा आपका यूनिक आर्टिकल।

यदि आप दूसरे के आर्टिकल से अपना आर्टिकल लिख रहे हो तो आपको अपने आर्टिकल में दूसरे के आर्टिकल से ज्यादा इंफॉर्मेशन देनी है और उसमें अपने तरीके से अच्छा से अच्छा समझाने की कोशिश करें। तो फिर वह आर्टिकल यूनिक आर्टिकल ही हो जाएगा और आपका आर्टिकल गूगल सर्च इंजन में रैंक भी करेगा। लेकिन हो सकता है थोड़ा समय लगाएगा रैंक होने में।

अब दोस्तों यह बताते हैं कि किसी आर्टिकल को original अर्थात यूनिक कैसे बनाएं। मित्रों यदि तुम किसी ऐसे टॉपिक पर अपना कंटेंट लिख रहे हो जो कि इंटरनेट पर पहले से ही उपलब्ध है तो आपको उस कंटेंट पर सर्च करने के लिए कई सारे पोस्ट इंटरनेट पर मिल जाएंगे, जो कि आपकी मदद करते हैं कि आप अपने आर्टिकल को यूनिक बना सकें। अब तुमको अपने आर्टिकल में एडिशनल इंफॉर्मेशन जोड़नी है। जैसे यदि आप एक आर्टिकल लिख रहे हो जिसका शीर्षक है-‘ब्लॉग कैसे बनाएं’ तो दोस्तों तुमको अपने कंटेंट में जो इंफॉर्मेशन देनी है वह दें परंतु एडिशनल इंफॉर्मेशन भी दें कि ब्लॉग बनाने के पश्चात क्या-क्या करना होता है। तो दोस्तों इस से आपका आर्टिकल यूनिक हो जाएगा।

ऐसा आर्टिकल जो इंटरनेट पर पहले से उपलब्ध न हो-

मित्रों यदि तुम किसी ऐसे टॉपिक पर अपना पोस्ट अर्थात आर्टिकल लिख रहे हो जो कि इंटरनेट पर पहले से उपलब्ध नहीं है। तो तुम्हारा आर्टिकल सर्च इंजन पर टॉप रैंक में दिखाया जाएगा। दोस्तों तुम बड़ी सरलता से उन सभी टॉपिक पर यूनिक पोस्ट लिख सकते हो जो कि इंटरनेट पर पहले से उपलब्ध होते हैं, क्योंकि तुम उस टॉपिक पर रिसर्च कर सकते हो‌।

परंतु जब बात आती हैं कि ऐसे टॉपिक पर आर्टिकल लिखो जो इंटरनेट पर पहले से उपलब्ध ना हो तो उस टॉपिक पर आर्टिकल लिखना थोड़ा सा मुश्किल हो जाता है। इस मुश्किल को थोड़ा सा सरल करने के लिए हम आपको वे तरीके बताने वाले हैं जिनका यदि आप अनुसरण करते हैं तो आप यूनिक आर्टिकल बड़ी आसानी से लिख पाओगे।

आर्टिकल लिखने के लिए रिसर्च कैसे करें-

दोस्तों मुझे ऐसा लग रहा है कि हमारा यह आर्टिकल अपने आप में एक बहुत बड़ा टॉपिक है। जो कि हर ब्लॉगर के काम आने वाला है । परंतु अधिकतर ब्लॉगर इसे बस यूं ही समझ लेते हैं और इसे हल्के में ले लेते हैं तथा ब्लॉगिंग करना उनके लिए फिर कन्फ्यूजिंग बन जाता है ।हर ब्लॉगर स्टार्टिंग में ऐसे ही टॉपिक पर आर्टिकल लिखता है जो इंटरनेट पर पहले से मौजूद होते हैं।

वैसे आपको बता दूं यह एक स्वाभाविक बाप है क्योंकि स्टार्टिंग में हर ब्लॉगर ऐसा ही करता है और जैसे-जैसे वह दूसरों के आर्टिकल से अपना आर्टिकल लिखता है, तो धीरे-धीरे उसे इतना अच्छा अभ्यास हो जाता है कि वह फिर बिना किसी अन्य के आर्टिकल को देखे बिना अपना Article लिखता है और वह यूनिक आर्टिकल लिखता है जो कि इंटरनेट पर पहले से उपलब्ध नहीं होता है। क्योंकि दोस्तों आपने वह कहावत तो सुनी ही होगी कि ‘करत करत अभ्यास जड़मति होत सुजान’ अर्थात बार-बार प्रयास करने से एक मूर्ख व्यक्ति भी समझदार बन जाता है।

मित्रों आपको बता दूं कि कुछ ऐसे ब्लॉगर होते हैं जो हमेशा दूसरों के आर्टिकल को देख देख कर तथा उसमें थोड़ा सा बदलाव करके अपना आर्टिकल बना लेते हैं और दोस्तों कुछ ऐसे लोग होते हैं जो वास्तव में अपना स्वयं का आर्टिकल लिखते हैं तथा वे किसी अन्य का आर्टिकल नहीं देखते हैं। जो ब्लॉगर अपना आर्टिकल स्वयं लिखते हैं जो कि इंटरनेट पर उपलब्ध नहीं होता है, वह आर्टिकल लिखना थोड़ा सा कठिन हो जाता है जिसके बारे में रिसर्च भी नहीं किया जा सकता। तो उसके बारे में आर्टिकल लिखना तो कठिन होगा ही। लेकिन यदि तुम ऐसा करते हो तो आपका आर्टिकल टॉप रैंक में दिखाया जाएगा।

मित्रों यूनिक आर्टिकल लिखने के लिए जो सबसे ज्यादा रिसर्च की जाती है वह है कि ‘एक ही विषय पर ब्लॉगिंग करना’ जब तुम एक ही टॉपिक पर ब्लॉगिंग करते हो तो आपको स्वयं को ऐसे तरीके और जानकारी होनी चाहिए। जिसके बलबूते पर तुम्हारा आर्टिकल यूनिक दिखें।

दोस्तों यूनिक आर्टिकल लिखने का यही अर्थ होता है कि आप अपने ज्ञान और सोच को अपने ब्लॉक के द्वारा सभी के साथ साझा कर रहे हो और ऐसा तुम तभी कर सकते हो जब तुम्हारी सोचने की क्षमता मैं वृद्धि हो चुकी होती है और आप नए नए तरीके सोचते हैं। तो आप यूनिक आर्टिकल अच्छी तरह से लिख पाते हैं और जैसे-जैसे आप आर्टिकल लिखते रहते हैं वैसे वैसे आपका ज्ञान बढ़ता रहता है और आप आर्टिकल लिखने में इतने ज्यादा मजबूत हो जाते हैं कि फिर आपको किसी के आर्टिकल को देखने की जरूरत नहीं पड़ती है।

आपको फिर स्वयं का ज्ञान हो जाता है और आप अपने ज्ञान के अनुसार आर्टिकल लिखते हैं जिससे वह आर्टिकल यूनिक होता है और गूगल में रैंक करने लग जाता है। तो दोस्तों मुझे पूरी उम्मीद है कि यह जानकारी तुमको अच्छी तरह से समझ में आई होगी। दोस्तों इस आर्टिकल को सोशल मीडिया के सभी प्लेटफार्म पर शेयर अवश्य करें। धन्यवाद

Leave a Comment